Makar-Sankranti(मकर-सक्रांति)

वर्ष नया उत्साह नया, नया-नया सा त्यौहार है

ठण्ड में दस्तक देता मकर सक्रांति का त्यौहार है|

तिल के लड्डु गुड कि मिठास इस कि यह पहचान है

हवा मे गोते खाती पतंग संक्रान्ति कि जान है|

चिनी चावल धान का करते हम सब दान है

पुण्य कमा कर इष्ट देव का करते हम ध्यान है|

मकर राशि पे सूर्य का आना सक्रात कि पहचान है

उत्तरायणी पर्व शुरु हो जन सभी के लिये खास है|

नील गगन मे भरी है पतंगे , सभी मे नया उत्साह है

खिचडी के साथ स्वादिष्टः बनाये, नया-नया सा त्यौहार है |

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
Open chat